जबलपुर। आधारताल पुलिस द्वारा आईपीएल सट्टे के प्रकरण में जब्त किये मोबाइल सुपुर्द नामें में देने से जिला न्यायालय ने इंकार कर दिया। सरकारी पक्ष द्वारा यह तर्क रखा गया है कि जब्त किया गया मोबाइल साक्ष्य की विषय वस्तु हैं इसे सुपुर्द नामें में दिया गया तो साक्ष्य प्रभावित हो सकते हैं। अभियोजन पक्ष के अनुसार आधारताल पुलिस के द्वारा आईपीएल क्रिकेट के दौरान सुपर िंकग एवं दिल्ली वैâपिटल के मैच का हारजीत का दांव लगाये जा रहे थे। पुलिस ने आरोपी अमित जायसवाल उर्फ राजू के कब्जे से एक मोबाइल सैमसंग कंपनी का टच स्क्रीन मोबाइल जिसमें एयरटेल की सिम नंबर ८८२१८५४४२३ लगी हुई थी को धारा ४ क सट्टा अधिनियम एवं धारा १०९ के तहत जब्त किया गया हैं। आवेदक राहुल बेन की ओर से अधिवक्ता ने मोबाइल के एकमात्र स्वामी राहुल बेन को मोबाइल के सुपुर्द नामे हेतु समस्त शर्तों को मानने हुए आवेदन किया था। शासन की ओर से जिला अभियोजन अधिकारी शेख वसीम के मार्गदर्शन में  सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारीr केजी तिवारी ने शासन की ओर से अपना पक्ष रखते हुए सुपुर्द नामा खारिज करने हेतु निवेदन किया और बताया कि ऐसी स्थिति में आवेदक को जप्तशुदा मोबाइल सुपुर्द कर दिया जाना उचित नहीं होगा जो कि साक्ष्य की विषय वस्तु है। अभियोजन अधिकारी द्वारा दिए गए  तर्कों से सहमत होते हुए न्यायालय सुरेश सिंह न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी जबलपुर ने उक्त सुपुर्द नामा खारिज किया।