पूर्व सीएम और मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमल नाथ ने ग्वालियर में पत्रकारों से चर्चा के दौरान कहा कि आने वाले उप चुनाव तय करेगा कि मध्य प्रदेश कौन सी पटरी पर चलेगा। उन्होंने भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि शिवराज सिंह चौहान मुझसे 15 महीने का हिसाब मांग रहे हैं, मुझे अभी तक 15 साल का हिसाब नहीं दिया। शिवराज जेब में नारियल लेकर चलते हैं जब चाहे शिलान्यास कर देते हैं। उन्होंने कहा कि संविधान और लोकतंत्र की रक्षा करने की जरूरत है, मेरे जैसे नेताओं की तो कट गई है, आने वाले पीढ़ी के लिए चिंता करनी होगी। मतदाता समझ रहे हैं कि किस प्रकार सौदे की सरकार बनी है। कमल नाथ ने आरोप लगाया कि शिवराज ने वोटों से नहीं नोटों से सरकार बनाई है। पूर्व सीएम ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान ने ग्वालियर चंबल के लिए कितनी घोषाणाएं की उनमें कितनी पूरी की हैं वे जबाब दें। 15 साल में मजदूर ही पैदा हुए क्योंकि सीएम शिवराज ने कोई रोजगार नहीं दिया। लॉक डाउन में आपने मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, बिहार और उत्तर प्रदेश के मजदूर सड़कों पर देखे। हम चाहते थे एमपी में निवेश आए लेकिन व्यवसायियों को एमपी पर भरोसा नहीं था।