भोपाल. कांग्रेस वर्किंग कमेटी (Congress working committee) की सोमवार को होने वाली बैठक से पहले पार्टी नेतृत्व को लेकर नेताओं के अलग-अलग सुर सुनाई दे रहे हैं. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) से कांग्रेस (Congress) के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) ने सोनिया गांधी को पार्टी का नेतृत्व जारी रखने की मांग की है. पांच गांधियोंं के साथ काम कर चुके कमलनाथ ने सोनिया गांधी के नेतृत्व पर भरोसा जताया है. कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा है कि मैं इंदिरा गांधी, संजय गांधी, राजीव गांधी, सोनिया गांधी और राहुल गांधी के साथ काम कर चुका हूं. लगभग 40 साल तक लंबे समय के रूप में संसद सदस्य और कांग्रेस पार्टी का महासचिव रहा हूं.कमलनाथ ने सोनिया गांधी के नेतृत्व को नकारने वालों को कहा है कि उन्हें यह नहीं भूलना चाहिए कि सोनिया गांधी के खिलाफ तमाम झूठी अफवाह के बावजूद उन्होंने 2004 में कांग्रेस पार्टी की जीत का नेतृत्व किया और अटल बिहारी वाजपेई को घर बैठाया. सोनिया गांधी के नेतृत्व पर कोई भी सुझाव या आक्षेप बेतुका है. कमलनाथ ने सोनिया गांधी से अपील की है कि वे अध्यक्ष के रूप में कांग्रेस पार्टी को मजबूती देते हुए कांग्रेस का नेतृत्व जारी रखें.

ये नेता राहुल गांधी को बनाना चाहते हैं कप्तान
एक तरफ जहां कमलनाथ ने सोनिया गांधी से पार्टी का नेतृत्व जारी रखने की मांग की है तो वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस वर्किंग कमेटी के सदस्य और पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह समेत कांग्रेस के युवा नेता उमंग सिंघार, जीतू पटवारी, कुणाल चौधरी ने राहुल गांधी को पार्टी का नेतृत्व करने की मांग की है. बहरहाल आज होने वाली कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में तय होगा कि अब कांग्रेस पार्टी की कमान बुजुर्ग नेता या फिर युवा नेता के हाथ में होती है, लेकिन मध्य प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के नेतृत्व को लेकर नेताओं के अलग-अलग सुर बताते हैं कि पार्टी में अब नेतृत्व बदलाव के साथी बड़े बदलाव भी देखने को मिलेंगे.