सूरजपुर : जिला अंतर्गत छत्तीसगढ़ शासन की महत्वकांक्षी योजना ’’वन अधिकार अधिनियम 2006’’ के तहत् वर्ष 2005 से पहले काबिज वन भूमि पर जनजातियों या अन्य समुदाय को वन अधिकार पत्र वितरण किया गया। जनपद पंचायत सूरजपुर के ग्राम पंचायत सोनवाही में राज्य शासन के निर्देशानुसार एफआरए क्षेत्र का चयन किया गया जिसमें ग्राम पंचायत सोनवाही के वनाधिकार क्षेत्र का क्षेत्रफल लगभग 43.00 एकड़ में फैला हुआ है जिसके अंतर्गत 21 एफआरए हितग्राही निवास करते हैै उस क्षेत्र का विकास व आजीविका से जोड़ने के लिए मनरेगा योजना अंतर्गत कार्यो की स्वीकृति दी गई है।

’’वन अधिकार अधिनियम 2006’’ के तहत्ग्राम पंचायत सोनवाही में हमर जंगल हमर आजीविका के तहत्ग्राम पंचायत सोनवाही में मनरेगा के माध्यम से स्व सहायता समूह को वर्किग शेड़ निर्माण हेतु 12.5 हजार रूपये की स्वीकृति प्रदान किया गया हैं। जिसमें फ्लाई एशईट निर्माण मशीन जिला प्रशासन सूरजपुर द्वारा प्रदान किया गया है। जिसका उपयोग कर ग्राम के स्व सहायता समूह के 15 महिलाओं को 3000-4000 रूपये प्रतिमाह आय प्राप्त हो रही हैं। एक ईट बनाने की लागत लगभग 2.23 रूपये प्रतिनग आ रही है तथा उक्तईट को 3.00 रूपये प्रतिनग की दर से विक्रय किया जा रहा है जिससे स्व सहायता समुह को 0.77 रूपये प्रतिनग का लाभ प्राप्त हो रहा है। मनरेगा के माध्यम से स्व सहायता समूह को वर्किग शेड़ में ईटो के निर्माण से अच्छी आय प्राप्त हो रही हैं एवं उनकी आर्थिक स्थितीसषक्त हो रही हैं। अब वे अपनी मूलभूत आवष्यकताओं की पूर्ती करने में सक्षम हो रही हैं। वे अपने परिवार का उचित रूप से देखभाल कर पा रही हैं और साथ ही अपने बच्चो को अच्छे विद्यालय में शिक्षा उपलब्ध करा रही है। इसके लिये उन्होंने छत्तीसगढ़ शासन को धन्यवाद ज्ञापित किया हैं।