धौलपुर. पेंशन के पैसे निकालवाने और केंद्र सरकार की ओर से किसानों को जारी राशि को लेने के लिए राजस्थान में ग्रामीण इलाकों में बैंकों के आगे कतारें लग रही है. ऐसे में धौलपुर जिला कलेक्टर ने इस परेशानी का हल ढूंढ निकाला है. अब धौलपुर जिले में डोर टू डोर पेंशन की डिलीवरी की जा रही है. जिसमें अभी तक साढ़े पांच करोड़ की डोर-टू-डोर पेंशन की डिलीवरी की जा चुकी है.

सहायता राशि लेने के लिए कतारें

जिले के ग्रामीण इलाकों में सामाजिक सुरक्षा योजना की पेंशन लेने और केंद्र व राज्य सरकार की ओर से जारी सहायता राशि लेने के लिए कतारें लग रही थीं. वहीं दौसा जिले में भी ऐसी कतारें देखने को मिलीं, पूरे राजस्थान में कई जिलों में बैंकों के आगे इसी कतारों से बचने के लिए धौलपुर के जिला कलेक्टर राकेश जायसवाल ने हल खोज निकाला. उन्होंने बैंकिग कॉरस्पॉडेंट और इंडिया पोस्ट के जरिए पेंशन की डोर-टू-डोर  डिलीवरी करवाना शुरु कर दिया. अब तक 29 हजार लोगों को 5.56 करोड़ की पेंशन घर घर जाकर दी गयी.

सोशल डिस्टेंसिंग का पालन ना होने का खतरा

जिला कलेक्टर राकेश जायसवाल ने बताया कि 29 हजार लोगों को 5.56 करोड़  रुपए की पेंशन राशि का भुगतान किया जा चुका है. कतारों में लगने वालों लोगों को इससे काफी राहत मिली है, वहीं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन ना होने का खतरा भी बना हुआ था जोकि डोर-टू-डोर डिलीवरी से ख़त्म हो गया. वहीं बैंककर्मियों को भी इससे राहत मिली है.

455 बैंकिंग कॉरस्पॉडेंट समेत 2500 लोगों की टीम

धौलपुर जिला कलेक्टर ने पेंशन की होम डिलीवरी के लिए 455 बैंकिंग कॉरस्पॉडेंट समेत 2500 लोगों की टीम बनाई. इस पहल ने राजस्थान ही नहीं देश को रास्ता दिखाया कि पेंशन समेत किसानों से लेकर सभी वर्गों की सहायता राशि के लिए बैंक में कतारे लगवाने की जरुरत नहीं बल्कि होम डिलीवरी हो सकती है.