जानलेवा कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए देशव्यापी लॉकडाउन 3 मई तक बढ़ा दिया गया। इसका मतलब साफ है कि दुनिया की सबसे महंगी टी-20 लीग IPL के भविष्य पर एक बार फिर संकट के बादल मंडराने लगे हैं। BCCI के सूत्रों की माने तो पहले 15 अप्रैल तक के लिए टाली गई इंडियन प्रीमियर लीग को भी अब 3 मई तक के लिए टाल दिया गया है।

आईपीएल के 13वें एडिशन की शुरुआत 29 मार्च से होनी थी लेकिन कोविड-19 के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए इसे टाल दिया गया। इससे पहले बीसीसीआई कोषाध्यक्ष अरुण धूमल ने कहा था कि फिलहाल आईपीएल के भविष्य को लेकर फैसला लेने की स्थिति में बोर्ड नहीं है।

इससे पहले भारत सरकार द्वारा नए वीजा नियम के तहत विदेशी यात्रियों के भारत आने पर रोक लगा दिया गया था। इसके बाद दिल्ली सरकार ने भी आदेश पारित करते हुए दिल्ली में होने वाले सभी खेल आयोजनों को रद्द करने का फैसला लिया था। इतना ही नहीं महाराष्ट्र समेत कई और राज्यों ने भी आईपीएल के आयोजन को लेकर सवाल उठाए थे।


T-20 विश्व कप
मौजूदा हालातों और इंटरनेशनल शेड्यूल को देखते हुए इस साल IPL का आयोजन बेहद मुश्किल नजर आ रहा है। 3 मई तक के लॉकडाउन के बाद बीसीसीआई को एक नई विंडो तलाशनी होगी। भारत में जून से सितंबर तक बारिश होती है। सितंबर में ही यूएई में एशिया कप टी-20 खेला जाना है। एशिया कप की भी टलने की संभावना है। 18 अक्टूबर से फिर ऑस्ट्रेलिया में टी-20 वर्ल्ड कप खेला जाना है। इसके बाद भी टीमों की आपसी सीरीज का कैलेंडर तय रहता है। अगर आईपीएल हुआ भी तो इसके फॉर्मेट में बदलाव देखा जा सकता है। मैच आधे हो सकते हैं। सीमित शहरों में ही इसका आयोजन होगा, इस बात की भी पूरी संभावना है कि विदेशी खिलाड़ी टूर्नामेंट न खेलें।