भोपाल । 15 महीने की कांग्रेस सरकार के मुखिया रहे कमल नाथ ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से सोमवार को मुलाकात की। उन्हें बताया कि हमारे नेताओं ने भाजपा के साथ मिलकर खेल खेला। भाजपा की साजिश और विधायकों को दिए गए प्रलोभनों से सरकार गिरी। उन्होंने सोनिया गांधी को भरोसा दिलाया कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस फिर लौटेगी और पूरी ताकत से आएगी।
कार्यवाहक मुख्यमंत्री कमल नाथ ने सोमवार दोपहर सोनिया गांधी से भेंट की। वे बुधवार को भोपाल लौटने वाले थे, लेकिन सोमवार की रात को नए मुख्यमंत्री के शपथ समारोह की वजह से वे सोमवार को ही भोपाल लौट आए। इसके पहले सोनिया गांधी से मिलकर उन्होंने प्रदेश की राजनीतिक परिस्थितियों के बारे में बताया। भाजपा की साजिश से सरकार कैसे गिरी तथा उसमें अपने लोगों ने किस तरह भाजपा का साथ दिया, पूरे घटनाक्रम के बारे में विस्तृत जानकारी दी।
कमल नाथ ने कांग्रेस अध्यक्ष को भाजपा द्वारा विधायकों को दिए गए प्रलोभनों, साजिश के बारे में भी बताया। उन्हें बताया गया कि न केवल विधायकों को प्रलोभन दिए गए, बल्कि बेंगलुरु में कांग्रेस विधायकों को किस तरह बंधक बनाकर रखा गया, यह भी बताया।
विधायकों को हमारे नेताओं से तो दूर परिजनों से तक नहीं मिलने दिया गया। कमल नाथ ने मुलाकात के दौरान अपनी 15 महीने की सरकार के प्रमुख कामों की जानकारी भी दी और बताया कि सरकार के जनहितैषी फैसलों से मध्यप्रदेश की तस्वीर बदलने की दिशा में काम कर किए जा रहे थे, लेकिन भाजपा ने बौखलाकर तथा भयभीत होकर साजिश की। नाथ ने उन्हें आश्वस्त किया कि प्रदेश के कांग्रेसजन एकजुट हैं और उनमें निराशा का भाव नहीं है। वे भाजपा की हर चुनौती का डटकर मुकाबला करेंगे।