नई दिल्ली । दिल्ली में आज मध्यप्रदेश के कार्यवाहक मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की है। कमलनाथ ने मध्य प्रदेश में कई दिनों तक चले सियासी संकट के बाद 20 मार्च को इस्तीफा दे दिया था। सदन में बहुमत परीक्षण से पहले ही उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस में भाजपा को निशाना बनाते हुए इस्तीफा दिया था। उनकी सरकार कुल एक साल तीन महीने चली। कांग्रेस के सभी 20 विधायक इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हो चुके हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया भी भाजपा में शामिल हो चुके हैं। अब भाजपा में इस बात पर मंथन चल रहा है कि सीएम पद की कमान किसे सौंपी जाए। मध्यप्रदेश से कमलनाथ सरकार की विदाई के बाद राज्य में सरकार की ताजपोशी के सवाल पर भाजपा में मंथन शुरू हो गया है। राज्य के नए सीएम के पद की रेस में पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और नरोत्तम मिश्रा शामिल हैं। इस पद के लिए शिवराज को सबसे प्रबल दावेदार बताया जा रहा था, लेकिन पार्टी में दूसरे विकल्पों पर भी विचार हो रहा है। भाजपा नेता मानकर चल रहे हैं कि मध्यप्रदेश में सरकार बनाने का रास्ता तो आसान है, लेकिन सरकार के कार्यकाल को पूरा कर पाने का रास्ता कठिन है। इसलिए केंद्रीय नेतृत्व भी संभल कर कदम रख रहा है।