भोपाल. मध्यप्रदेश में सियासी ड्रामा हर पल नया मोड़ ले रहा है. प्रदेश में राजनीतिक उथल-पुथल के बीच शुक्रवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह की सीएम हाउस में एक घंटे तक मीटिंग चली. चर्चा के दौरान सरकार को अस्थिर करने की प्रयासों को फ्लॉप करने की रणनीति तय की गई. इस दौरान दोनों नेताओं ने विधायकों से वन-टू-वन बात की. बसपा विधायक रामबाई भी सीएम हाउस में चर्चा के दौरान मौजूद रहीं.

सरकार पर छटे संकट के बादल
मध्यप्रदेश में सियासी संकट के बादल छंटते नजर आ रहे है. मंत्रियों ने सीएम हाउस से निकलते वक्त बताया कि सारे विधायक एकजुट होकर सरकार के साथ खड़े हैं. न्यूज18 से बातचीत करते हुए मंत्री लखन घनघोरिया ने कहा कि सरकार में सब कुछ ठीक है. कुछ भी संकट जैसे हालात नहीं है. सरकार द्वारा चारों विधायकों से लगातार संपर्क किया जा रहा है. किसी भी तरह की नाराजगी मंत्रियों और विधायकों में नहीं है. उन्होंने आगे कहा कि निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह देर रात भोपाल पहुंचकर सीएम कमलनाथ से मुलाकात करेंगे.

मंत्री गोविंद सिंह बोले- सीएम दवाब में नहीं लेते कोई फैसला


कमलनाथ सरकार में सामान्य प्रशासन मंत्री डॉ.गोविंद सिंह का कहा कि मैं दावे से कह रहां हू कि कांग्रेस पार्टी बहुमत में है. किसी तरह की संकट की स्थिति नहीं है. कमनलाथ दमदार मुख्यमंत्री है. सीएम दवाब में कोई फैसला नहीं लेते हैं. जब सीएम कमलनाथ को लगेगा कि मंत्रिमंडल विस्तार की जरूरत है तो जरूर किया जाएगा.