न्यूयॉर्क । गूगल के भारतीय मूल के सीईओ सुंदर पिचई ने कहा है कि कंपनी की हालात सही हुए बिना चीन में अपनी सेवाओं को फिर से शुरू नहीं करेगा। चीन की सख्त सेंसरशिप नीतियों के विरोध में 2010 में दिग्गज प्रौद्योगिकी कंपनी वहां से हट गई थी। गूगल को पिछले साल उन खबरों के बाद काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था कि कंपनी चीन में सर्च इंजन कारोबार को फिर से शुरू करने की संभावनाएं तलाश रही है।एक साक्षात्कार में 46 वर्षीय पिचई ने कहा कि गूगल चीनी सर्च इंजन पर तत्परता से काम नहीं कर रही है। गूगल चीन एवं वहां के करोड़ों इंटरनेट उपयोक्ताओं को नजरंदाज करके चल रही है। चीन में हमारी सेवाओं को फिर से शुरू करने की हमारी कोई योजना नहीं है। उन्होंने कहा कि गूगल अपने करोड़ों उपयोक्ताओं को सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए तत्पर रहता है और उसका मकसद सूचना उपलब्ध कराना है। गूगल अंतरराष्ट्रीय नियमों एवं प्रावधानों को पालन करने को लेकर प्रतिबद्ध है। गूगल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने कहा कि चीन में सेवाओं की फिर से शुरुआत के लिए गूगल को सही हालात चाहिए होगा। हालांकि पिचई ने अधिक विवरण देने से इनकार कर दिया।