भोपाल । प्रदेश में होने वाले लोकसभा चुनाव पर आयकर विभाग 24 घंटे नजर गढाए हुए हैं। प्रदेश की ऐसी दस हाई प्रोफाइल सीटों का चयन किया गया है, जहां चुनाव जीतने की होड़ में भरपूर धन-संसाधन झोंकने की संभावना है। आयकर विभाग द्वारा इन सीटों में निगरानी की विशेष व्यवस्था की गई है। इन चुनाव क्षेत्रों में कालेधन की आवाजाही पकड़ने के लिए विभाग की खुफिया विंग को भी सक्रिय किया गया है। आयकर को चुनाव आयोग की ओर से भी दो लोकसभा सीटों पर विशेष नजर रखने का मशविरा दिया गया था। प्रदेश की 29 लोकसभा सीटों पर चार चरण में मतदान हो रहे हैं, पहले चरण की छह सीटों पर 29 अप्रैल को मतदान हो चुका है। अब बाकी 23 सीटों पर 6, 12 और 19 मई को मतदान की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं। आयकर विभाग ने इनमें से करीब 10 सीटें ऐसी चिन्हित की हैं जो उसके निशाने पर हैं। इन क्षेत्रों में प्रतिष्ठा का सवाल बने चुनाव में दोनों प्रमुख दलों के साथ अन्य सभी प्रत्याशी मतदाताओं को प्रभावित करने की कोई कसर नहीं छोड़ रहे। इन इलाकों में कालेधन की आवाजाही पर नजर रखने के लिए आयकर विभाग ने विशेष इंतजाम किए हैं। उल्लेखनीय है कि चुनाव आयोग ने भी आयकर विभाग को इंदौर और छिंदवाड़ा सीट सहित 28 विधानसभा क्षेत्रों पर निगरानी का मशविरा दिया था। विभागीय सूत्रों का कहना है कि प्रदेश के सभी 52 जिलों में आयकर अफसरों की टीम जिला एवं पुलिस प्रशासन के साथ समन्वय बनाकर काम कर रही हैं। इनके अलावा जो सीटें राडार पर हैं वहां विभाग ने अपनी खुफिया विंग को भी सक्रिय कर दिया है। इन क्षेत्रों में सभी संभावित स्थानों की निगरानी के अलावा व्यावसायिक संस्थानों, बैंक और बड़े आर्थिक लेनदेन के केंद्रों पर भी नजर रखी जा रही है।
     राज्य एवं केंद्र सरकार की जांच एजेंसियां भी हर दिन वित्तीय लेनदेन की जानकारी एवं संदिग्ध लेनदेन संबंधी 'इनपुट" आयकर विभाग के साथ साझा करती हैं। भोपाल, इंदौर, सतना, मंदसौर, रतलाम, खजुराहो, राजगढ़, उज्जैन, खंडवा और सागर की हाई प्रोफाइल सीटों पर विशेष निगरानी व्यवस्था की गई है। इनके अलावा बाकी अन्य सीटों के लिए भी विभाग की टीमें तैनात हैं। आयकर विभाग ने 27 जनवरी की पहली बैठक के बाद से अब तक करीब 14.7 करोड़ रुपए मूल्य की नकदी और आभूषण जब्त किए हैं। इनमें से चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद अब तक करीब साढ़े चार करोड़ रुपए नकद जब्त किए गए हैं।इस बारे में आयकर इन्वेस्टीगेशन मप्र के प्रधान निदेशक पतंजलि झा का कहना है कि चुनाव के दौरान प्रदेश के सभी क्षेत्रों में कालेधन की आवाजाही पर नजर रखने आयकर अधिकारियों की टीमें तैनात की गई हैं। बैंकों व अन्य संस्थानों में बड़ी रकम के लेनदेन का ब्यौरा हर दिन हमारे पास आ रहा है। संदिग्ध लेनदेन की पड़ताल भी की जा रही है।