भोपाल । प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री कमलनाथ के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने कहा है कि पिछली सरकार के समय पांच सितारा परंपरा के अनुरूप जो इन्वेस्टर्स मीट होती थीं, निवेश लाने के नाम पर तामझाम और प्रचार पर करोड़ों रूपये फूंक दिये जाते थे। कई विदेश यात्राएंे होती थीं। देश भर के दौरे किये जाते थे। लाल कारपेट बिछाकर देश भर के उद्योगपतियों को बुलाया जाता था। जनता को गुमराह करने के लिये निवेश और रोजगार के दावे किये जाते थे, जबकि धरातल पर स्थिति शून्य थी। न निवेश आता था न रोजगार मिलता था। सारे दावे बाद में धराशायी हो जाते थे। प्रदेश में निवेश के लिये न तो सकारात्मक माहौल बनाया और न ही उद्योगपतियों का विश्वास प्राप्त किया। विश्वास की कमी के कारण प्रदेश में निवेश नहीं आता था। 
नरेन्द्र सलूजा ने कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पांच सितारा इन्वेस्टर्स मीट की परिपाटी को खत्म करते हुए भोपाल के मिंटो हॉल में उद्योगपतियों की राउंड टेबिल बैठक बगैर किसी तामझाम के आयोजित की। उद्योगपतियों को आमंत्रित कर वन-टू-वन चर्चा की, निवेश की संभावनाओं पर चर्चा की, रोजगार के अवसरों पर बात की और उन्हें होने वाली दिक्कतों व परेशानियों के बारे में पूछा। प्रदेश में निवेश और रोजगार को लेकर वे सरकार से क्या उम्मीद रखते हैं, उस पर चर्चा की और सुझाव लिये। इस आयोजन के माध्यम से मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बता दिया कि यदि दृढ़ इच्छा शक्ति हो तो निवेश और रोजगार को लेकर बगैर तामझाम के इस तरह के आयोजन कर काम किया जा सकता है।